बलरामपुर चिकित्सालय के बारे में

ऐतिहासिक झलक(1869)


बलरामपुर चिकित्सालय, लखनऊ की स्थापना वर्ष १८६९ में रेजीडेन्सी हिल डिस्पेंसरी के रूप में हूई थी । वर्ष १९०१-०२ में हिज हाईनेस ऑनरेबुल महाराजा बहादुर सर भगवती प्रसाद सिंह, क.क.स,ई., क.ब.ए., क.क.ई.ए., (१८९३-१९२१) दि महाराजा आफ बलरामपुर, द्वारा उपलब्ध करायी गयी धनराशि से इसका विस्तार हुआ तथा उन्हीं के राज्य के नाम पर इसका नाम बलरामपुर चिकित्सालय कर दिया गया । तत्समय में इसका संचालन “ बलरामपुर हास्पीटल ट्रस्ट फण्ड, लखनऊ “ नामक संस्था द्वारा किया जाता था, जिसके अपने अलग नियम थे ।
माह फरवरी १९४८ में इस चिकित्सालय का प्रान्तीयकरण कर लिया गया । उस समय यहा‌‌‌ पर कुल तीन (पी.एम.एस.-१ के एक तथा पी.एम.एस.-२ के दो) चिकित्सक कार्यरत थे । इसके अतिरिक्त तीन कम्पाउण्डर, बीस नर्सें, एक लिपिक एवं पचास अन्य कर्मचारी, जिनमें वार्ड कुली, दाई, चपरासी, माली, गार्डन कुली, चौकीदार, कहार, स्वीपर्स, धोबी, कुक, बियरर, किचन बियरर, इलेक्ट्रीशियन आदि पदधारक थे । प्रान्तीयकरण से पूर्व दो वार्ड क्रमशः इडिण्यन वार्ड एवं यूरोपियन वार्ड थे, जिसमे कार्यरत कर्मचारियों को अलग-अलग वेतन प्राप्त होता था

हमारे प्रशासनिक अधिकारी




डॉ. राजीव लोचन

निदेशक,प्रमुख अधीक्षक


डॉ. ऋषि कुमार सक्सेना

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक

डॉ. हिमांशु चतुर्वेदी

चिकित्सा अधीक्षक

Copyright © All rights reserved
Developed By Softmation Technology